तीस्ता की गोद और बौद्ध के पालने में जवां होता प्रकृति का अनिंद्य सौन्दर्य ‘गंगटोक’

गंगटोक से लौटकर अरविंद कुमार सिंह यह मंगोलियन, चीनी, बांग्ला, पहाडी, नेपाली, हिंदू मिश्रित संस्कृतियों का अद्भुत और अकल्पनीय भारतीय प्रदेश है। तिब्बत…

Read More

तो कांग्रेस की ओवरहालिंग का सबसे मुफीद समय है राहुल युग ?

कांग्रेस: गांधी से गांधी तक वह पीढ़ी आज भी कांग्रेसी कल्चर में ही सोचती और जीती है। हाँलाकि इस कालखंड में गंगा, यमुना,…

Read More

तो मेरे जिले का कलेक्टर सेवाभाव को इतना सीमित आंकता है ?

(व्यंग्य) संदर्भ: #पद्मश्री आलोचना हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है अरविंद सिंह ◆रामखेलावन को जयसिंह यादव के नाम को पद्मश्री के लिए नामित होने से…

Read More

नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने की बात करना मेरी नासमझी थी, आज शर्म आती है : राम जेठमलानी

पत्र में पीएम मोदी को संबोधित करते हुए जेठमलानी लिखते हैं, ‘आपके तीन साल के काम को लेकर मेरी निराशा को आप नहीं…

Read More

जहर मिलता रहा..जहर पीते रहे……. बंदिशों में बेखौफ होने का मजा

याद नहीं आता इंदिरा गांधी के इमरजेन्सी के दौर को छोडकर कभी कोई प्रधानमंत्री बहस – चर्चा में आया । जेएनयू में रहते…

Read More

यह प्रधानमंत्री की स्वेच्छाचारिता और निरंकुशता की पराकाष्ठा है…

नोटबंदी भारत के प्रधानमंत्री ने भ्रष्टाचार को भगाने के नाम पर, काला धन को लाने के नाम पर, नकली नोटों को मुद्रित होने…

Read More