‘सूरज के छिपने तक’ : मौलिकता के मूल से मुलाक़ात

रविराज पटेल परिलेख प्रकाशन, नजीबाबाद की नवीनतम प्रस्तुति ‘सूरज के छिपने तक’ एक सारगर्भित काव्य संग्रह है | मूलतः पटना निवासी कवयित्री रश्मि…

Read More

‘वृद्धावस्था विमर्श’ तथा ‘संकल्पना’ लोकार्पित

साहित्यिक-सांस्कृतिक संस्था ‘साहित्य मंथन’  के तत्वावधान में आंध्र प्रदेश हिंदी अकादमीके नामपल्ली स्थित सभाकक्ष में स्व. चंद्रमौलेश्वर प्रसाद कृत ‘वृद्धावस्था विमर्श’ तथा ऋषभदेव…

Read More