सप्तम दुर्गा : श्री कालरात्रि

“एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता। लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी॥ वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टक भूषणा। वर्धन्मूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयंकरी॥“ मां दुर्गा के सातवें स्वरूप या शक्ति को कालरात्रि कहा जाता…

Read More

षष्ठम देवी- कात्यायनी

कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनीघ भगवती दुर्गा के छठें रूप का नाम कात्यायनी है। महर्षि कात्यायन के घर पुत्री के रूप में उत्पन्न हुई…

Read More

पंचम देेेेवी : श्री स्कंदमाता

“सिंहासनगता नित्यं पद्याञ्चितकरद्वया। शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी॥“ श्री दुर्गा का पंचम रूप श्री स्कंदमाता हैं। श्री स्कंद (कुमार कार्तिकेय) की माता होने…

Read More

चतुर्थ देवी- कूष्मांडा

सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च। दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मेघ भगवती दुर्गा के चौथे स्वरूप का नाम कूष्माण्डा है। अपनी मंद हंसी द्वारा अण्ड अर्थात्…

Read More

शिव से मिलन की रात्रि है महाशिवरात्रि  / ललित गर्ग

Posted on

महाशिवरात्रि- 24 फरवरी 2017 पर विशेष प्रतिवर्ष महाशिवरात्रि का पर्व फाल्गुण मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाता है। महाशिवरात्रि शिवत्व…

Read More