विस्तार सपनों का/ अमन कुमार त्यागी

कभी-कभी परिस्थितियां भयावह हो जाती है। आदमी सोचता कुछ है, करता कुछ है और हो कुछ जाता है। जीवन भर भोजन बनाता है मगर अन्तिम समय में किसी रेतीली दीवार का भरभराकर गिर जाता है। आसमान सी बुलन्दियों को छूने की चाह रखने वाला उस समय असमंजस की स्थिति में होता है जब जमीन उसके पैरों से खिसक चुकी होती है। सबको साथ लेकर चलने वाला एकाएक अकेला रह जाता है। कुछ यही हाल हुआ श्रीधर का।
श्रीधर के जितने बड़े रूप में थे उसमें अधिक उसमें काम करने की क्षमता थी। वह अकेले दम पर दुनिया फतह कर लेने की चाह पाने हुए था मगर ज्यों-ज्यों समय बीतता गया उसकी कार्यक्षमता घटती गयी और सपने ऊँचे होते गये। उसकी स्थिति प्लेटफार्म पर दौड़ते उस यात्री जी हो गयी जो दौड़कर ट्रेन के डिब्ब में चढ़ जाना चाहता है। दौड़ते-दौड़ते सोचता है बस किसी तरह डाला हाथ में आ जाए। थकन के कारण उसके पाँव जवाब देने लगते है। उनकी गति कम होने लगती है और ट्रेन की गति निरन्तर बढ़ती जाती है। आखिर..

आखिर ट्रेन उससे दूर होती जाती है। वह प्लेट धर्म पर खड़ा है। अपनी सांसो के व्यवस्थित करता है और एक सीट पर बैठकर बड़-बड़ाता है, चले जाने दो….पता नहीं क्या बेहतरी है। ट्रेन उससे छूट जाती है, वह थक्कर बैठ जाता है परन्तु निराश नहीं होता। दूसरी ट्रेन का इन्तजार करने के लिए वह प्लेटफार्म पर खाली नहीं बैठा रहता। वह अन्य कोई जरूरी काम निपटाता है और फिर शान के साथ दूसरी ट्रेन की संवारी करता है मगर इस बार ऐसा नहीं हुआ…..उसके हाथ से जो निकल रहा था वह पुनः नही आने वाला था। वह अपने आप को धराशापी होते देख रहा था। उसके सपने बिखर रहे थे। वह अपने द्वारा लगायी गयी बगिचा को उजड़ते देख रहा था।

उसकी पत्नी ने हिम्मत कर पूछ ही लिया- ‘‘अब क्या होगा जी।’’

श्री धर ने पलंग से उठने का उपक्रम किया, बयाँव में चप्पल पहने और कराहती सी आवाज में कहा-अब होना है, जो होना का हो चुका।’’

मुझे तो बहुत डर लग रहा है जी, दुनिया क्या कहेगी? पत्नी का जवाल पूरा होने तक वह खड़ा है। चुका था और उसका जवाब देने से पहले ही उसका सर चकराया, वह किसी कटे पेड़ सा गिर पड़ा। उसकी पत्नी घबरा गयी। वह फुर्ती से उठी। उसने श्रीधर के सर को सहलाया और घबराते हुए पूछा-क्या हुआ जी?

कुछ नहीं, बस सर चकरा गया है, लगता है कमजोरी आ गयी है शरीर में, और फिर उस गिरने से तो यह गिरना अच्छा है। श्रीधर के मुँह से अनायास ही निकला था।

‘अपने आपको संभालो जी, आपके सिवा मेरा इस दुनिया में है ही कौन?’ श्री धर की पत्नी की आँखों से निरन्तर आंसु बह रहे थे। मगर श्री धर था कि उसकी आँखे सूख चुकी थी। मानो अकाल पड़ गया हो, वह बेचैन इतना था कि समझ ही नहीं पा रहा था क्या करे?’’

उसकी पत्नी ने उसे ठीक से पलंग पर लिटाया। पीने के लिए पानी दिया और फिर उसी के पास बैठती हुई बोली-सब कुछ खत्म हो गया, ये दिन देखने के भी रह गये थे।

श्री धर अपनी पत्नी के चेहरे के देख रहा था। जो उसे तो समझ रही थी परन्तु संवालों का पहाड़ उसके अन्दर सीना ताने खड़ा था। जो सागर को मथ रहा था और इस बार के सागरमंथन में विष निकल आया था। इस विष को पीने के लिए श्री धर को ही शंकर बनना था।
प्लंग पर पड़ा उसका शरीर हिथिल होता जा रहा था। मगर मस्तिष्क था कि उन सभी सवालों का जवाब तलाशने में किसी सर्च इंजन सा काम कर रहा था। श्री धर ने बड़ी ही साफ-सुथरी जिन्दगी जी है। उसने कुछ भी छिपाया नहीं है, वह सिद्धांतो पर चलने वाला साहसी व्यक्ति है….मगर अब जो उसके साथ हुआ वह उसमें अबर नहीं पा रहा है। वह कमजोर नहीं है, वह लड़ सकता है…मगर किसके साथ? यह सवाल अनसुलझा है…इस बार उसकी लड़ाई स्वयं उसी के साथ है। वह अपने आप को हराना नहीं चाहता है….और अपने आप से जीतना उसके बम में नहीं रहा।
वह सोच रहा था उन हरे-भरे वृक्षों के बारे में जो लहलहाते हुए बेहद आकर्षक लगते हैं। जिन्हें मन्द-मन्द बहती शीतल बयार का स्त्रोत मान लिया जाता है…मगर जब यही वृक्ष किसी भयानक आँधी की चपेट में आकर झूमने लगते हैं तब उनका रखवाला उनके टूटकर गिर जाने की चिन्ता तो करता है किन्तु उनसे दूर खड़ा रहकर….और फिर एकाक्षक ज बवह वृक्ष चरर-मरर की आवाज के साथ धराशायी होते हैं तो वह स्थिति बड़ी ही पीड़ादायक होती है….अवशेषों को ऐसे उठाया जाता है मानो किसी की अर्थी को उठाया जा रहा हो।

किसी की अर्थी को उठाना या फिर हरे-भरे वृक्षों के उखड़ जाने पर उन्हें उठाना फिर भी सरल है….मगर अपने ही विचारों, सपनों और इच्छाशक्ति की अर्थी को उठाना मानव मस्तिष्क के लिए बेहद कठिन धर्म है। और आज श्री धर को अपनी ही सोचों की अर्थी उठाना पड़ रहा था।

उसे आज का वह वृक्ष याद आ रहा था जिसके फल अक्सर पड़ोसी के खेत में गिर जाते थे। वृक्ष पर भरपूर फल आते थे, श्री धर ने उस वृक्ष को जी जान से पोषित किया था। इन फलों के कारण आज दिन पड़ोसी में झगडा रहने लगा….विवाद बचने के लिए श्रीधर ने पड़ोसी के खेत में गिरे फलों को उठाना छोड़ दिया। कुछ ही सालों में हरा-भरा आम का वह वृक्ष काला पड़ने लगा और देखते ही देखते उसकी हरियाली गायब हो गयी। वह पूरी तरह सूख चुका था, बाद में उस वृक्ष को कटवाना पड़ा। मगर श्रीधर इस वृक्ष को कैसे कटवा दे जिसे उसने अपने लहू से सिंचित किया था, जिसके लिए उसने रात दिन एक कर दिये थे। कैसे उठाये ही संस्कारों की अर्थी। कैसे दफन कर दे स्वयं की ही देह को?

श्री धर अपराधी नहीं था…..मगर वह अपराधी हो जाना चाहता था। वह कभी निराश नहीं हुआ था…..मगर अब अपने ही लहू का कत्ल करने के विकल्प में वह आत्महत्या के पक्ष को भी जानता था और हत्या के पाप को भी। वह स्वतंत्रता और स्वच्छन्दता के भेद के भी जानता था। तभी तो वह एक ही दिन में बार-बार मर रहा था।

आज वह अपने ही विचारों का मूल्यांकन भी कर रहा था। दुनिया के तमाम आरोपों-प्रव्यारोपों से बचने के लिए उसने एकान्तवास चुना था। वह कम बोलता था और अपने काम से काम रखता था। किसी के भी दुःख दर्द में काम आने को वह अपना परमकर्तव्य मानता था। जरूरते इतनी कि बस जीवन चलता रहे, सपने इतने कि सदैव दूसरों के काम आता रहे। स्वास्थ्य इतना कि काम करता रहे और बीमार इतना कि भगवान का नाम न भूल जाए।

श्रीधर ने दो घूंट पानी पिया और पलंग पर पुनालेट गया। उसने उंगलियों से आंखों की कोटों को साफ किया मगर फिर भी धुंधला दिखायी दे रहा था। फोम का गद्दा भी उसे भीष्म शैय्या-लग रहा था।

सब कुछ खत्म हो गया। श्री धर ने यह बात भी जैसे ताकत लगाकर कही हो। ठीक उसी अन्दाज में जैसे भीष्म पितामह अपनी आँखों के सामने सब कुछ बरबाद होता देखते रहे। सब छल-कपट से वाबस्ता होने के बावजूद वह कोई भी निर्णय लेने की स्थिति में नही थे। वही हाल आज श्री धर का था। उसकी आँखों के सामने उसकी दुयिा उजड़ गयी थी।

‘‘ऐसे घबराने से काम नहीं चलेगा और फिर जीवन भी तो यही समाप्त नहीं हो जाना।’’ श्रीधर श्री पत्नी उसे समझाने का प्रयास किया।
‘‘हाँ सही कहती हो। जिसकी डोली सजाने के लिए जीवनभर उद्योग करता रहा अब उसी के डोली की जरूरत नहीं रही।’’ श्रीधर के मुख से निकला और वह मानव बीज सा संकुचित होता चला गया।

‘‘क्या यह स्वार्थ नहीं है? आप तो इतने स्वार्थी न थे छोड़कर जाने वाले का आपने पहले कभी दुख नहीं किया।’’ श्रीधर की पत्नी ने कहा तो श्रीधर ने अपने पीने पर रख हाथ उठाकर अपनी आंखो पर रख और जब उसने हाथ हटाया तो उसकी आंखों में आशा की किरण थी। अब उसे लग रहा था कि वह वास्तव में सूक्ष्म होता जा रहा है। उसे इतना सूक्ष्म नहीं होना चाहिए। उसकी आँखों की चमक बता रही थी कि वह मानव बीज की तरह पुनः विस्तार चाहता है। विस्तार सपनों का, इच्छाओं का और अपने दायित्वों का।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *